SDM vs SDPO:SDM vs SDPO:

SDM बनाम SDPO: आपने आमतौर पर आसपास के लोगों से सुना होगा कि हम SDM या SDPO ऑफिस जा रहे हैं। ये पदों पर बैठे अधिकारी काम के सिलसिले में अक्सर लोगों के सामने आते हैं। SDM और SDPO की सरकारी नौकरियाँ बहुत प्रतिष्ठित मानी जाती हैं और ये पद विभिन्न प्रशासनिक कार्यों के लिए जिम्मेदार होते हैं। इन पदों पर चयन विभिन्न राज्य सरकारों द्वारा व्यापारिक सेवा आयोग (PCS) या केंद्रीय लोक सेवा आयोग (UPSC) के माध्यम से किया जाता है।

SDM (Sub Divisional Magistrate) : सब डिविजनल मजिस्ट्रेट (SDM) को सब डिवीजनल मजिस्ट्रेट के नाम से भी जाना जाता है। यह भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) कैडर से संबंधित है और राज्य प्रशासनिक सेवा (State Civil Service) के एक स्टेट सिविल सेवा ऑफिसर का पद होता है। इन अधिकारियों का काम विभिन्न प्रशासनिक और कानूनी मामलों की देखरेख करना होता है, जैसे कि भूमि राजस्व कलेक्ट करना और लॉ और ऑर्डर बनाना। यह आपराधिक प्रक्रिया संहिता 1973 के तहत कई एक्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट की भूमिकाएं भी अदा करते हैं।

SDPO (Sub-Divisional Police Officer) सब-डिवीजनल पुलिस अधिकारी (SDPO) की मुख्य भूमिका सुरक्षा और कानून व्यवस्था की देखरेख करना होता है। ये पद पुलिस सेवा के तहत आते हैं और विभिन्न प्रकार के आपराधिक मामलों के बारे में जानकारी प्राप्त करते हैं, स्थानीय पुलिस अधिकारियों के नेतृत्व में अपराधों की जांच करते हैं और सुरक्षा की व्यवस्था सुनिश्चित करते हैं।

इन दोनों पदों में विभिन्न कार्य और जिम्मेदारियाँ होती हैं, लेकिन पावरफुल पद की बात करें तो यह पद स्थानीय प्रशासनिक क्षेत्र में उच्च पावर और प्रभाव रखते हैं, क्योंकि वे सुरक्षा और कानून व्यवस्था की सीधी देखरेख करते हैं।

एसडीएम का काम:

  1. गाड़ियों का पंजीकरण करना
  2. राजस्व से संबंधित कार्यों की देखरेख करना
  3. चुनाव से संबंधित कार्यों का प्रबंधन करना
  4. विवाह से संबंधित पंजीकरण करना
  5. ड्राइविंग लाइसेंस की ताजगी की प्रक्रिया का प्रबंधन करना और नए लाइसेंस जारी करना
  6. आर्म्स लाइसेंस की नवीनीकरण प्रक्रिया का प्रबंधन करना और नए लाइसेंस जारी करना
  7. ओबीसी, एससी/एसटी और डोमिसाइल सर्टिफिकेट जारी करना

एसडीएम के पास ये अन्य भी जिम्मेदारियाँ होती हैं, जो कि प्रशासनिक और कानूनी क्षेत्रों में उनकी प्राधिकृतता और प्रभावशाली भूमिका को परिलक्षित करती हैं।

SDM vs SDPO:
SDM vs SDPO:

SDPO (Sub Divisional Police Officer): SDPO का पूरा नाम सब डिवीजनल पुलिस ऑफिसर (Sub Divisional Police Officer) होता है और यह पद भारत में एक विशेष पुलिस अफसर का होता है। इस शब्द का प्रयोग ब्रिटिश भारतीय पुलिस अधिनियम, 1861 से हुआ था, जब लॉर्ड रैफल्स ने इस पद की स्थापना की, ताकि वे पुलिसी कार्यों का प्रबंधन कर सकें। यह पद इंस्पेक्टरों से नीचे के होते हैं और विभिन्न पुलिस स्टेशनों में स्थापित होते हैं।

SDPO के कार्यों में गश्त और जांच जैसे कार्य शामिल होते हैं, जिनका प्रबंधन करने के साथ-साथ वे स्थानीय पुलिस अधिकारियों के साथ मिलकर अपराधों की जांच करते हैं और सुरक्षा की व्यवस्था को सुनिश्चित करते हैं। उनकी सहायता से स्थानीय समस्याओं का समाधान, आदिवासी मुद्दों पर काम करना और लॉ और ऑर्डर में सुधार करने का काम भी होता है।

SDPO के पास नागरिकों को गिरफ्तार करने या जांच करने की कोई स्वतंत्रता नहीं होती है। वे कानूनी प्रक्रिया का पालन करते हैं और किसी को गिरफ्तार करने के लिए मजिस्ट्रेट या न्यायाधीश की आदेशीकृति की आवश्यकता होती है।

इस पद का महत्वपूर्ण कार्यक्षेत्र सुरक्षा और न्याय सुनिश्चित करना होता है, और यह पुलिस प्रशासन की महत्वपूर्ण भूमिकाओं में से एक होती है।

SDPO का पावर: SDPO (Sub Divisional Police Officer) का पावर एक इंस्पेक्टर के समान होता है, लेकिन यहाँ कुछ अंतर होते हैं जिन्हें देखा जा सकता है। एक महत्वपूर्ण बात यह है कि SDPO को किसी को गिरफ्तार करने का अधिकार नहीं होता। यदि पुलिस ऑपरेशन के दौरान कोई व्यक्ति SDPO के खिलाफ हमला करता है या धमकी देता है और उसका व्यवहार उसके और उसके समूह के लिए हानिकारक होने की संभावना हो, तो SDPO को बल का प्रयोग करने की अनुमति होती है।

एक और महत्वपूर्ण विवादित पहलू यह है कि SDPO को “इंस्पेक्टर” नहीं माना जाता है। इसका मतलब है कि उनके द्वारा की गई गतिविधियों का कोई रिकॉर्ड उनके संबंधित पुलिस स्टेशनों में नहीं होता है, जैसे कि इंस्पेक्टरों की गतिविधियों का होता है।

पुलिस स्टेशनों को छोड़कर, SDPO सब डिवीजनल मजिस्ट्रेट के समान पावर का प्रयोग करता है। भारत में कई पुलिस स्टेशनों में सब डिवीजनल पुलिस ऑफिसर की आवश्यकता होती है ताकि प्रत्येक स्टेशन पर लॉ और ऑर्डर की ड्यूटी का पालन करने के लिए पर्याप्त अधिकारी हों। न्याय प्रशासन, लॉ एनफोर्समेंट और व्यवस्था बनाए रखना SDPO की जिम्मेदारी होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *