India GDP Data 2023India GDP Data 2023

नई दिल्‍ली: आर्थिक सेक्टर में सरकार और देशवासियों के लिए बड़ी खुशखबरी आई है। भारत की जीडीपी (Gross Domestic Product) ने सभी विशेषज्ञों और रेटिंग एजेंसियों की उम्मीदों को पार करते हुए अप्रैल से जून तक के चार महीनों में सबसे तेज विकास दर प्राप्त की है। सरकार ने गुरुवार को जारी आंकड़ों के अनुसार वित्तीय वर्ष 2023-24 की पहली तिमाही में भारत ने 7.8 फीसदी की शानदार विकास दर दर्ज की है।

राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) ने गुरुवार को शाम 5:30 बजे जीडीपी के आंकड़े जारी किए और बताया कि 2023-24 की पहली तिमाही अप्रैल से जून तक (April-June) की विकास दर 7.8 फीसदी रही है। यह चार महीनों की अवधि में सबसे तेज विकास दर है। अधिकांश आर्थिक विशेषज्ञों ने इस अवधि के लिए 7.7 फीसदी तक की विकास दर का अनुमान लगाया था। पिछले साल अप्रैल से जून तक 2022 में जीडीपी की विकास दर 13.1 फीसदी थी। इसके बाद के 3 महीनों में विकास दर कभी इस स्तर तक नहीं पहुंची। जनवरी से मार्च 2023 तक की अवधि में विकास दर सिर्फ 6.1 फीसदी थी।

कंस्ट्रक्शन और मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर

India GDP Data 2023
India GDP Data 2023

एक साथ एक मजबूत विकास कहानी प्रस्तुत की है। अप्रैल से जून तक की चार महीनों की अवधि में, महंगाई के खौफ़ के बावजूद, उपभोक्ताओं की खपत ने मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर को मजबूती से सहायता प्रदान की है। निर्माण क्षेत्र की विकास दर अप्रैल से जून तिमाही में 7.9 फीसदी रही है, जो जनवरी से मार्च तिमाही में 10.4 फीसदी और पिछले साल अप्रैल से जून तिमाही में 16 फीसदी थी। समान रूप से, मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की ग्रोथ दर अप्रैल से जून तिमाही में 4.7 फीसदी रही, जो जनवरी से मार्च तिमाही में 4.5 फीसदी और पिछले साल अप्रैल से जून तिमाही में 6.1 फीसदी थी।

कृषि क्षेत्र: ने भी बुरे मौसम और वर्षा की चुनौतियों के बावजूद भारतीय कृषि क्षेत्र ने वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में मजबूत विकास दर्ज की है। अप्रैल से जून तिमाही में कृषि सेक्टर की ग्रोथ दर 3.5 फीसदी रही, जबकि पिछले साल की समान तिमाही में यह 2.4 फीसदी थी। जनवरी से मार्च तिमाही में भी कृषि सेक्टर की ग्रोथ दर 5.5 फीसदी रही थी।

इसके साथ ही, निजी खपत भी वृद्धि कर रही है, लेकिन सरकार के खर्च में कटौती हुई है। अप्रैल से जून तिमाही में निजी खपत की वृद्धि दर 6 फीसदी रही है। जनवरी से मार्च तिमाही में निजी खपत की दर 2.8 फीसदी थी, जबकि अप्रैल से जून तिमाही 2022 में यह 19.8 फीसदी थी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *